The Indian Air Force has handed over 40 acres of land to the Airports Authority of India (AAI) to operate civilian aircraft from its seven bases.

क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना होगी सुविधाजनक

वायु सेना के पास पश्चिम बंगाल में बागडोगरा, बिहार में दरभंगा, पंजाब में आदमपुर, राजस्थान में उतरलाई, उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर जिले में सरसावा, कानपुर और गोरखपुर में एयरबेस हैं। वायु सेना के इन ठिकानों पर सिविल एन्क्लेव बनाने के लिए हवाई अड्डे को धरातल पर उतारने की कवायद शुरू हो गई है।

In order to facilitate Regional Connectivity Scheme (RCS) under 'Ude Desh Ka Aam Nagrik' (UDAN), the Indian Air Force has decided to hand over military land to the Airports Authority of India (AAI) after getting nod from the Defense Ministry.

AAI हवाई अड्डों के बुनियादी ढांचे  का करेगा विस्तार

वायु सेना प्रवक्ता आशीष मोघे के अनुसार सिविल टर्मिनलों के विकास, आरसीएस उड़ानें शुरू करने और आवश्यक बुनियादी ढांचे का विस्तार करने के लिए एएआई को सातों ठिकानों की लगभग 40 एकड़ भूमि सौंप दी है।

अब भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण उड़ान योजना के तहत नागरिक उड़ानों को संचालित करने के लिए हवाई अड्डों के बुनियादी ढांचे का विस्तार करेगा। इसके बाद वायु सेना के मौजूदा हवाई क्षेत्रों का उपयोग किया जा सकेगा।

इन स्थानों पर हवाई संपर्क प्रदान करने से अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा और क्षेत्रों का विकास होगा।

प्रवक्ता के अनुसार इसके अलावा वायु सेना आरसीएस के तहत कवर किए गए छह अन्य एयर बेस पर नागरिक हवाई अड्डों का विस्तार करने के लिए रक्षा भूमि सौंपने की प्रक्रिया में है।

These include air bases at Srinagar, Thanjavur, Chandigarh, Leh, Pune and Agra. This will facilitate expansion of existing terminals, accommodating increased passenger numbers and cargo infrastructure.