नागरिकता का प्रमाण मांगा जाना दुर्भाग्य जनक : जितेन्द्र तिवारी

बंगाल मिरर, इंद्र भूषण झा, दुर्गापुर।  दुर्गापुर के एसपी मोड़ स्थित पंचमुखी बालाजी धाम में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा में गुरुवार को अतिथि के रूप में तृणमूल कांग्रेस के जिला पर्यवेक्षक कर्नल दीप्तांशु चौधरी और जिला अध्यक्ष सह आसनसोल के में जितेंद्र तिवारी बतौर अतिथि शामिल हुए ।

riju advt

इस मौके पर आसनसोल के मेयर जितेंद्र तिवारी ने कहा कि यह दुर्भाग्य कि भारतीयों से देश की नागरिकता का प्रमाण मांगा जा रहा है।   जो प्रभु राम का नाम लेते हैं ,जो श्रीकृष्ण का नाम लेते हैं, जो माता सीता  का नाम लेते हैं,  बजरंगबली का नाम लेते हैं,यही प्रमाण है कि वह भारतीय हैं, कम से कम इन लोगों से देश के नागरिक का प्रमाण नहीं मांगा जाना चाहिए। क्योंकि इन भगवानों का नाम इंग्लैंड, अमेरिका या पाकिस्तान के लोग नहीं लेंगे जो भारत के लोग हैं वही इनका नाम लेंगे।

उन्होंने कहा कि यहां जो प्रवचन सुनेंगे जीवन में उसका 2-3 फीसदी भी  अमल में लाए तो काफी है।  यहां कृष्ण  सुदामा की कहानी सुनेंगे और घर जाकर एक बाल्टी पानी और जमीन के लिए मारपीट करेंगे ऐसा नहीं होना चाहिए। दोनों एक साथ नहीं चल सकता है । यहां आना तभी सार्थक होगा जब अपने जीवन में थोड़ा भी बदलाव लाते हैं। अपने व्यवहार और जीवनशैली में थोड़ा भी बदलाव ला सकते हैं, तभी प्रवचन में आना  सफल होगा। अन्यथा यहां आने और नहीं आने से कोई लाभ नहीं  है। एक कान से सुनकर दूसरे कान से निकाल देने का कोई लाभ नहीं है। आशा है कि भगवान हम सभी को सद्बुद्धि देंगे और हम लोग अपने जीवन में बदलाव लाएंगे।