Kolkata NewsWest Bengal

Asansol इंटरसिटी, अजमेर सुपरफास्ट समेत 5 ट्रेन 7 से 9 तक Sealdah नहीं जायेगी

बंगाल मिरर, कोलकाता :  Asansol इंटरसिटी, अजमेर सुपरफास्ट समेत 4 ट्रेन 7 से 9 तक Sealdah नहीं जायेगी। सियालदह स्टेशन के प्लेटफार्म के विस्तारीकरण और विकसित करने के लिए 7 से 9 जून तक एनआई कार्य और इंटरलॉकिंग होगा। पहले चरण का कार्य पूरा हो चुका है। दूसरे चरण के कार्य 7 से  9 तक होंगे। इस दौरान सिर्फ चार ट्रेनों का सियालदह के बजाय कोलकाता से परिचालित किया जायेगा। यह ट्रेनें इन तीन दिनों सियालदह स्टेशन के बजाय कोलकाता में यात्रा समाप्त करेंगी और वहीं से चलेंगी।

आज प्रेस कांफ्रेंस में पूर्व रेलवे के सीपीआरओ कौशिक मित्रा एवं अन्य वरिष्ठ रेल अधिकारी द्वारा बताया गया कि सियालदह डिवीजन भारत के सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशनों में से एक, सियालदह स्टेशन पर महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के विकास  के पहले चरण के सफल समापन की घोषणा करते हुए प्रसन्न है। इन परियोजनाओं से स्टेशन पर क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि होगी और यात्री अनुभव में सुधार होगा। यह व्यापक आधुनिकीकरण परियोजना सियालदह डिवीजन की अपने सम्मानित यात्रियों के लिए एक असाधारण यात्रा अनुभव प्रदान करने की अटूट प्रतिबद्धता में एक महत्वपूर्ण कदम है। सियालदह स्टेशन पर व्यापक उन्नयन में रूट रिले इंटरलॉकिंग (आरआरआई) पैनल से दोहरी वीडीयू प्रणाली के साथ एक इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग (ईआई) प्रणाली की शुरुआत शामिल थी, साथ ही 12-कार ट्रेनों को समायोजित करने के लिए प्लेटफॉर्म 1 से 5 का विस्तार भी किया गया था। यह परियोजना ट्रेन की आवाजाही में उल्लेखनीय सुधार करेगी, भीड़भाड़ को कम करेगी और यात्री सुरक्षा को बढ़ाएगी। यह परिष्कृत तकनीक ट्रेन की आवाजाही को सुव्यवस्थित करती है, प्लेटफ़ॉर्म उपयोग को अनुकूलित करती है, और समग्र परिचालन दक्षता को बढ़ाती है। परियोजना में प्लेटफ़ॉर्म 1 से 5 का विस्तार भी शामिल है, जिससे उन्हें 12-डिब्बे वाली ट्रेनों को समायोजित करने में सक्षम बनाया जा सके, जिससे यात्रियों को बैठने की पर्याप्त व्यवस्था और अधिक आरामदायक यात्रा का अनुभव मिल सके। 

परियोजना के चरण 2 में जटिल कार्य शामिल हैं जैसे कि टर्नआउट को इकट्ठा करना, बिछाना और हटाना, ओवरहेड उपकरण (ओएचई) पोर्टल का निर्माण और डीसी ट्रैक सर्किट की स्थापना। इसके अतिरिक्त, निर्बाध संचालन सुनिश्चित करने के लिए स्टेशन की सिग्नलिंग और दूरसंचार प्रणालियों का आधुनिकीकरण किया जाएगा। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि किसी भी निर्माण कार्य के मामले में कहा जाता है कि – *“आज का दर्द, कल का लाभ”*।

07.06.2024 को प्री-एनआई कार्य पूरा करने तथा 08 और 09 जून को दो दिवसीय नॉन-इंटरलॉकिंग कार्य के लिए सियालदह में ट्रेनों की आवाजाही के कुछ नियम होंगे, जो इस प्रकार होंगे:- • सियालदह में 21 प्लेटफॉर्म में से केवल 5 प्लेटफॉर्म पर परिचालन बंद रहेगा तथा शेष 16 प्लेटफॉर्म चालू रहेंगे। • डिवीजन द्वारा चलाई जाने वाली 894 उपनगरीय ट्रेनों में से 806 ट्रेनें इस अवधि के दौरान सेवा में बनी रहेंगी। • सियालदह/दक्षिण खंड में अर्थात डायमंड हार्बर, नामखाना, लक्खीकांतपुर, कैनिंग, बज बज, सोनारपुर जंक्शन से आने-जाने वाली ट्रेनें सामान्य आवृत्ति पर चलेंगी। • सियालदह/उत्तर एवं मुख्य खंड में अर्थात नैहाटी, रानाघाट, हसनाबाद, बारासात, बनगांव जंक्शन, कृष्णानगर जंक्शन और अन्य उपनगरीय स्टेशनों से आने-जाने वाली रेल सेवाएं चलेंगी, सिवाय इसके कि सियालदह पर समाप्त होने वाली सेवाओं की आवृत्ति 5:30 से 8:30 बजे की अवधि के दौरान 6.04 मिनट से बढ़कर 12.00 मिनट हो जाएगी और 8:30 से 11:30 बजे के दौरान 4.03 मिनट से बढ़कर 15 मिनट हो जाएगी। अन्य समय अर्थात 14:30 से 22:30 बजे तक आवृत्ति केवल 7.5 मिनट से थोड़ी कम होकर 12 मिनट हो जाएगी। • इसी प्रकार सियालदह से शुरू होकर नैहाटी, रानाघाट, हसनाबाद, बारासात, बनगांव जंक्शन, कृष्णानगर जंक्शन, गेडे और अन्य उपनगरीय स्टेशनों तक जाने वाली रेल सेवाएं चलेंगी, सिवाय इसके कि व्यस्त समय के दौरान 17:30 से 20:30 बजे तक आवृत्ति चलेगी। 20:30 से 23:30 बजे तक की अवधि में 6 मिनट से 13 मिनट और 8 मिनट से 9 मिनट तक की मामूली वृद्धि होगी। 5:30 से 17:30 बजे तक के अन्य समय के लिए, आवृत्ति 7 मिनट से 13 मिनट तक बढ़ जाएगी। • उपनगरीय यात्रियों की देखभाल के लिए, हम सियालदह/उत्तर और मुख्य खंड में यात्रियों की संख्या को समायोजित करने के लिए ज्यादातर 12 कोच वाली ईएमयू चलाएंगे। •

4 जोड़ीमेल/एक्सप्रेस ट्रेनें यानी सियालदह-अजमेर एसएफ एक्सप्रेस, हाटेबजारे एक्सप्रेस, सियालदह-बालुरघाट एक्सप्रेस और सियालदह-आसनसोल एसएफ एक्सप्रेस सियालदह स्टेशन के बजाय कोलकाता स्टेशन से शुरू और समाप्त होंगी। इसी तरह सियालदह-लालगोला पैसेंजर भी सियालदह स्टेशन के बजाय कोलकाता स्टेशन से शुरू/समाप्त होगी। • कोई भी आरक्षित मेल/एक्सप्रेसएसएफ ट्रेन रद्द नहीं की जा रही है। अन्य मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें सियालदह से चलेंगी/समाप्त होंगी। • सियालदह से कोलकाता के लिए डायवर्ट की जाने वाली मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों और पैसेंजर ट्रेनों की उपरोक्त 4 जोड़ी ट्रेनें सियालदह से ही समय सारणी के अनुसार चलेंगी/समाप्त होंगी। • 806 में से 147 सेवाएं शॉर्ट टर्मिनेट/शॉर्टओरिजिनेट होंगी। उपनगरीय ट्रेनों का शॉर्ट टर्मिनेशन ज्यादातर दमदम जंक्शन और दमदम कैंटोनमेंट पर होगा। •

विभागीय और ठेकेदार के कर्मचारियों सहित कुल लगभग 400 अतिरिक्त कर्मचारी चौबीसों घंटे काम करेंगे। इस परियोजना के चरण 1 का सफलतापूर्वक पूरा होना सियालदह डिवीजन के विभिन्न विभागों के समर्पण और टीम वर्क का प्रमाण है। उच्च कुशल कर्मचारियों की एक टीम और वरिष्ठ अधिकारियों और पर्यवेक्षकों की एक टीम ने सुरक्षा मानकों से समझौता किए बिना उन्नयन के समय पर निष्पादन सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सियालदह डिवीजन सभी यात्रियों के लिए एक सुरक्षित, कुशल और आरामदायक यात्रा अनुभव प्रदान करने के लिए अपने बुनियादी ढांचे और सेवाओं में निरंतर सुधार करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Leave a Reply