विधायक का कार्यकर्ताओं को अल्टीमेटम 7 दिन में सुधरे या कुर्सी छोड़े

बंगाल मिरर, सुमन, पांडेश्वर। पांडेश्वर के शीतलपुर में रविवार को तृणमूल कांग्रेस का कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया गया। यहां मुख्य वक्ता के रूप में टीएमसी जिलाध्यक्ष सह पांडेश्वर विधायक जितेन्द्र तिवारी मौजूद थे। सभा की शुरूआत शहीदों को श्रद्धांजलि देकर की गयी। सभा में टीएमसी जिलाध्यक्ष सह पांडेश्वर विधायक जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि जिसे तीन तल्ला मकान बनाना है, वह टीएमसी छोड़कर भाजपा में जाये, चोर-बदमाश वहीं है।

riju advt

सात दिन के अंदर एक्शन शुरू होगा, आपलोग सुधर जाये या हट जाये। कुर्सी पर बैठे रहेंगे और काम नहीं करेंगे एसा नहीं होगा। पंचायत से जो भी कार्य होगा, उसकी खुद निगरानी करूंगा, यह मत समझे कि आसनसोल में रहकर मुझे कोई खबर नहीं मिलेगी। गरीब इलाके में काम करना होगा, जहां पहले सड़क है वहां फिर से सड़क बनाना नहीं चलेगा। जहां वास्तव में जरूरत है, वहां काम करना होगा। सभी को समान रूप से देखना होगा। उन्होंने कहा कि जहां पैच आउटसोर्सिंग हो रहा है, वहां अगर 100 लोगों को नौकरी दी जा रही है, तो स्थानीय गांव के 80 युवाओं को नौकरी देनी होगी।

स्थानीय गांव के लोग धूल, प्रदूषण झेलेंगे तो काम बाहर के लोगों को क्यों, जो लोग इसे देखते हैं, गंभीरता से लें। वोट लेते समय गरीब, दलित का वोट लेंगे, काम देने के समय भाई-भतीजावाद करेंगे। इसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। पार्टी ने ही नेता बनाया है, पार्टी ही जीरो कर देगी। इसलिए खुद को सुधारे, अन्यथा बहुत लोग हैं नेता बनने के लिए। उन्होंने कहा कि  गुस्सा में लोगों ने भाजपा को वोट दिया है। पांडेश्वर में कोई बीजेपी नहीं है, सीपीएम के लोग हमारे साथ आ गये हैं, जो हमलोग से नाराज हैं, वही बीजेपी है, उनलोगों से मिलकर उन्हें मनाये। उन्होंने कहा कि सभी अंचल सभापति 7-10 दिन के अंदर जिन पर भी राजनीतिक मामले हैं, इसकी सूची दें, इसका सारा खर्च पार्टी वहन करेगी। ताकि कोर्ट में तारीख पड़ने पर उनका पैसा न लगे । सभी प्रधान, उप प्रधान सात दिन के अंदर रिपोर्ट बनाये कहां किस काम के लिए कितनी राशि दी गयी, कैसा काम किया गया है, इसे देखा जायेगा। ममता बनर्जी ने जो भी सुविधा गरीब जनता के लिए दी है, उसे गरीब लोगों तक पहुंचानी होगी, पंचायत सदस्य एवं बूथ सभापति को बूथ के हर घर की खबर रखनी होगी। बूथ सभापति मतलब हर घर के रसोईघर का खबर रखेगा। गरीब लोगों से मिले, उनके घर जाये। बूथ के सभी घर की खबर अगर आपके पास नहीं है तो आपका सभापति रहना बेकार है। सात दिन के अंदर सभी बूथ सभापति को लेकर बैठक की जायेगी, उस समय लोगों की क्या समस्या है, यह बताना होगा। अगर एसा नहीं कर पाते हैं तो आपलोग अपनी जिम्मेदारी छोड़ दीजिए। उन्होंने कहा कि  हमलोगों के आने पर स्वागत कर जिन्दाबाद करेंगे उसके बाद घर में जाकर सो जायेंगे, एसा नहीं चलेगा। पार्टी का नेता जो भी होगा वह लोहा, कोयला, बालू जैसा कोई अवैध कारोबार में नहीं रहेगा। वह लोग तय कर लें कि नेता बनेंगे या अवैध कारोबार करेंगे। जो लोग अवैध कारोबार करेंगे उसे पार्टी में जिम्मेदारी नहीं मिलेगी। जो लोग खुद को सात दिन में नहीं सुधार पायेंगे, वह अपनी जिम्मेदारी छोड़ दें। छोर्रा अंचल की तरह ही सभी अंचल में इसे लागू किया जायेगा।