कर्नल, मेयर ने साइकिल चलाकर जताया विरोध

बंगाल मिरर, जामुड़िया। पेट्रोल-डीजल की कीमतों के विरोध के खिलाफ तृणमूल छात्र परिषद जामुड़िया द्वारा चांदा में साइकिल रैली निकाली गयी। यहां एसबीएसटीसी चेयरमैन सह टीएमसी जिला पर्यवेक्षक कर्नल दीप्तांशु चौधरी एवं टीएमसी जिलाध्यक्ष एवं आसनसोल के मेयर जितेन्द्र तिवारी ने भी साइकिल चलाकर विरोध प्रकट किया। इस मौके पर कर्नल दीप्तांशु चौधरी ने कहा कि मां,माटी,मानुष की सरकार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में चल रही है। सरकार जनकल्याण के लिए लगातार कार्य कर रही है। इन जनकल्याणकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी छात्र एवं युवाओं के कंधे पर है। यहां छात्रों ने एकत्रित होकर जिस तरह से जनविरोध नीतियों के खिलाफ आन्दोलन शुरु किया है, इससे प्रतीर हो रहा है कि जामुड़िया सबसे आगे है। इतिहास गवाह है कि छात्र एवं युवाओं ने ही जनविरोधी नीतियों के खिलाफ आन्दोलन को नेतृत्व दिया है।

riju advt

बीते दो-तीन माह में केन्द्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल की कीमतें 22 बार बढ़ाया है। एलपीजी से लेकर गरीब आदमी के जरूरत की हर चीज की कीमत बढ़ रही है। इसके खिलाफ लगातार आन्दोलन करने की जरूरत है। मेयर एवं टीएमसी जिलाध्यक्ष जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बीते कुछ दिनों में 22 बार कीमत बढ़ायी गयी। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत कम होने पर देश में एलपीजी, पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने से इसका सीधा प्रभाव हमारे घरों पर पड़ रहा है। केन्द्र मंर प्रधानमंत्री सरकार का प्रबंधन नहीं कर पा रहे हैं। कोयला मंत्री कोल इंडिया को, रेलमंत्री रेल को बेच रहे हैं। इससे स्पष्ट होता है कि केन्द्र के लोगों के पास सरकार चलाने का अनुभव नहीं है। जब वह लोग सरकार नहीं चला पा रहे हैं तो इस्तीफा देकर चले जायें। सरकारी कंपनियों को निजी हाथों में देकर समस्या का समाधान नहीं किया जा सकता है। कोयला उद्योग, बैंक के राष्ट्रीयकरण में पीएम का योगदान नहीं था, जो संस्था उन्होंने तैयार नहीं किया तो बेच क्यों रहे हैं। ममता बनर्जी के निर्देश पर पूरे राज्य में लगातार आन्दोलन किया जा रहा है। जामुड़िया के छात्रों ने भी इसमें शामिल होकर सराहनीय कार्य किया है।