PM के साथ CM की 45 मिनट बैठक, एक लाख करोड़ बकाया मांगा, दिया पत्र

बंगाल मिरर, कोलकाता :  मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( Chief Minister Mamata Banerjee ) पूर्व में कई बार शिकायत कर चुकी हैं कि केंद्र राज्य का बकाया भुगतान नहीं कर रहा है। उन्होंने शुक्रवार को फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Prime Minister Narendra Modi ) को पत्र लिखा। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार दोपहर दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की। करीब 45 मिनट तक दोनों के बीच बैठक हुई। हालांकि, यह पता नहीं चल पाया है कि बैठक में दोनों के बीच क्या चर्चा हुई, लेकिन प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में ममता ने कहा कि केंद्र पर एक लाख करोड़ रुपये का कर्ज है. जिसमें से 100 दिन का काम (मोनरेगा), प्रधानमंत्री आवास योजना और प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना 17,996.32 करोड़ रुपये का बकाया है। राज्य सरकार इस बारे में केंद्र को बार-बार सूचित कर चुकी है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई है. मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से बंगाल का बकाया जल्द से जल्द निपटाने की अपील की। वहीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से भी मिलकर बधाई दी।

पत्र में ममता ने लिखा, ‘मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना और प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के क्रियान्वयन में पश्चिम बंगाल पूरे देश में सबसे आगे है। उसके बाद भी केंद्र से पैसा नहीं आ रहा है। जिससे परियोजना के क्रियान्वयन में बाधा आ रही है। गांव के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है वित्तीय वर्ष के अंत में आम तौर पर केंद्रीय परियोजनाओं के लिए पैसा भेजा जाता है। ममता ने यह भी कहा कि इस परियोजना को समय पर लागू करना संभव नहीं है, जिसके चलते यह संभव नहीं है.

ममता ने पिछले साल नवंबर में प्रधानमंत्री से बकाया राशि के निपटान की अपील की थी. पत्र में इसका जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को 14वें वित्त आयोग के विभिन्न विकास परियोजनाओं, टैक्स शेयरिंग, परफॉर्मेंस ग्रांट के लिए केंद्र से 1,00,968.44 करोड़ रुपये मिले. मुख्यमंत्री ने कुल बकाया राशि की राशि बताने के अलावा लेखा भी प्रस्तुत किया।

मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा है कि मोनरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, सांभर शिक्षा मिशन, मध्याह्न भोजन, स्वच्छ भारत मिशन, विशेष बीआरजीएफ समेत 13 योजनाओं में केंद्र का भारी बकाया है. खाद्य सब्सिडी। इसकी कुल राशि 39,322.60 करोड़ है। अम्फान में करीब 32,310 करोड़ रुपये, बुलबुल में 6,334 करोड़ रुपये और यास में 4,222 करोड़ रुपये बकाया है। इसके अलावा 14वें वित्त आयोग के परफॉर्मेंस ग्रांट का करीब 1016 करोड़ रुपये केंद्र पर बकाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.