बहुत जल्द अवैध निर्माण पर कानूनी करवाई की जाएगी : चंद्रशेखर

बंगाल मिरर, साबिर अली, कुल्टी- आसनसोल नगर निगम द्वारा बराकर बाजार के सड़क के दोनों किनारे पर स्थित नालियों के ऊपर से अतिक्रमणकारियों द्वारा अवैध निर्माण एवं दुकानदारों को हटाने की निर्देश पर लगभग सभी दुकानदार ने अपनी अपनी अवैध निर्माण को खुदसे तोड़कर नगर निगम की कार्य मे अपनी सहयोगिता दिखाई है। जबकि नगर निगम द्वारा अवैध इमारत हटाने के अभियान के दौरान कहा गया था कि नालि के ऊपर तक वर्टिकली अपने अवैध कब्जा को हटाना है। इसके बाद से बाजार के कई दुकान व मकान तोड़ने का कार्य आरंभ हो गया।

लेकिन वही सप्ताह भर बीत जाने के बाद भी कुछ इमारते हैं जो आज भी नालियों पर अवैध कब्जा जमाए बैठे है। जिसमे किसी की बालकुनी निकला गया है तो किसी दुकान की सीढ़ी, मकान की सीढ़ी और तो और कई ऐसी दुकाने भी है जो नाली के ऊपर अभी तक अटल है। स्थानीय लोगो का कहना है नगर निगम के आदेश को हमने बिना विरोध किये माना और अपनी अवैध कब्जे को खुद हटा लिया पर आज भी ऐसी कुछ दुकाने और इमारत है। जिन्होंने अपने अवैध कब्जा नही हटा। क्या नगर निगम हमारे साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है हम लोगो ने क्या गुनाह किया था जो हमे हमारे रोजगार से वंचित कर दिया गया और वही कई लोग अभी भी खुलेआम अवैध कब्जा जमाए बैठे है। नगर निगम को त्वरित कारवाई करते हुए निष्पक्ष भाव से बाकी बचे अवैध कब्जा को भी हटाना चाहिए।

इस संबंध मे आसनसोल नगर निगम के प्रशासक बोर्ड सदस्य शेखर कुंडू से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अगर ऐसी बात है तो बहुत जल्द उन अवैध उचित कानूनी करवाई की जाएगी।स्थानीय बराकर स्टेशन रोड निवासी सलीम रिजवान ने बताया कि बराकर बाजार पिछले कई वर्षों से जाम की समस्या से जूझ रहा है लेकिन नगर निगम का बराकर बाजार से अवैध कब्जा हटाने का निर्णय बहुत ही सराहनीय है उन्होंने ने कहा कि निगम के इस कार्य से इलाके का एक बहुत बड़ा हिस्सा इसके समर्थन मे है कारण जाम से अधिक परेशानी स्थानीय लोगो को था ।उन्होंने कहा कि निगम प्रशासन को अभी आराम से नही बैठना चाहिए कारण की अभी भी बराकर बाजार से अवैध कब्जा पूर्ण रूप से नही हटा है ।जिस पर भी ध्यान केंद्रित करना चाहिए ।वही बुधवार को नगर निगम के प्रशासक बोर्ड के सदस्य चंद्रशेखर कुंडू ने बराकर बाजार का निरीक्षण भी किया। जो अवैध कब्जा जमाए बैठे लोगों के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *